ट्रम्प ने माना- विपक्ष के एक उम्मीदवार की जानकारी निकालने के लिए बेटे ने रूसी वकील के साथ की थी मुलाकात

वॉशिंगटन.   अमेरिकी राष्ट्रपति डोनाल्ड ट्रम्प ने पहली बार माना कि उनके बेटे डोनाल्ड ट्रम्प जूनियर ने अमेरिकी राष्ट्रपति चुनाव से पहले जून 2016 में एक रूसी वकील से मुलाकात की थी। न्यूयॉर्क स्थित ट्रम्प टॉवर में हुई यह बैठक विपक्ष के एक उम्मीदवार की जानकारी हासिल करने के लिए की गई थी। उन्होंने कहा-  “इसमें नया कुछ नहीं है। बातचीत कानूनी रूप से सही थी। राजनीति में हमेशा से ऐसा होता रहा है।” माना जा रहा है कि विपक्ष के जिस उम्मीदवार की ट्रम्प बात कर रहे हैं, वो डेमोक्रेटिक पार्टी की राष्ट्रपति उम्मीदवार हिलेरी क्लिंटन थीं।

पिछले साल न्यूयॉर्क टाइम्स अखबार ने खुलासा किया था कि ट्रम्प जूनियर ने रूसी वकील नतालिया वेसेलनित्सकाया से मुलाकात की थी। इसके बाद से ही अमेरिका राष्ट्रपति चुनाव के नतीजे प्रभावित करने के आरोप डोनाल्ड ट्रम्प और रूस पर लगाए गए। इसकी जांच के लिए एक कमेटी भी बनाई गई थी। अमेरिकी खुफिया एजेंसियों का मानना है कि रूस ने इस चुनाव में दखल देकर नतीजों को फिक्स करने की कोशिश की थी। हालांकि, ट्रम्प और रूस, दोनों ही इससे इनकार करते रहे हैं।

क्यों आया ट्रम्प की तरफ से यह बयान : एक दिन पहले ही अमेरिकी मीडिया में खबर आई कि रूसी वकील से मुलाकात की वजह से डोनाल्ड ट्रम्प जूनियर कानूनी पचड़ों में फंस सकते हैं। राष्ट्रपति ट्रम्प चिंता में हैं। जवाब में रविवार को ट्रम्प ने ट्वीट किया-  “फेक न्यूज मीडिया झूठी खबर चला रहा है कि मैं अपने बेटे की मीटिंग को लेकर परेशान हूं।”

 

Donald J. Trump

@realDonaldTrump

Fake News reporting, a complete fabrication, that I am concerned about the meeting my wonderful son, Donald, had in Trump Tower. This was a meeting to get information on an opponent, totally legal and done all the time in politics – and it went nowhere. I did not know about it!

ट्रम्प जूनियर बदलते रहे हैं अपना स्टैंड : रूसी वकील से मुलाकात को लेकर ट्रम्प जूनियर बयान बदलते रहे हैं। 2017 में उन्होंने कहा था कि नतालिया के साथ उनकी मुलाकात का एजेंडा अमेरिकी राष्ट्रपति चुनाव नहीं था। ये मुलाकात रूसी बच्चों को गोद लेने वाले एक बंद पड़े कार्यक्रम को लेकर हुई थी। हालांकि, बाद में उन्होंने कहा था कि वह इस मुलाकात के लिए इसलिए तैयार हुए, क्योंकि इसमें उन्हें हिलेरी क्लिंटन से जुड़ी अहम जानकारी मुहैया कराने की बात कही गई थी।

ट्रम्प टॉवर में हुई मुलाकात विवादित क्यों: अमेरिकी चुनाव में नेताओं के लिए अपने विपक्षी की जानकारी जुटाना आम है, लेकिन कानूनी जानकारों का कहना है कि ट्रम्प जूनियर ने चुनावी अभियान के दौरान दूसरे देश के प्रतिनिधि से मिलकर अमेरिका के कानूनों को तोड़ा है। कानून के तहत चुनाव अभियान से जुड़ा कोई भी व्यक्ति किसी विदेशी से कोई भी मदद या जानकारी नहीं ले सकता। हालांकि, ट्रम्प के वकीलों का कहना है कि उन्हें इस मीटिंग के दौरान ऐसी कोई जानकारी नहीं मिली, जिससे हिलेरी को चुनाव में किसी तरह का नुकसान हुआ हो।