चंद्रयान 2: विक्रम लैंडर की खोज से जागी उम्मीदें, इसरो के मिशन में अगले 12 दिन अहम

इसरो के पास विक्रम से संपर्क साधने के लिए 12 दिन हैं. क्योंकि अभी लूनर डे चल रहा है. एक लूनर डे धरती के 14 दिनों के बराबर होता है. इसमें से 2 दिन बीत चुके हैं. यानी अगले 12 दिनों तक चांद पर दिन रहेगा. उसके बाद चांद पर रात हो जाएगी, जो पृथ्वी के 14 दिन के बराबर होती है. रात में उससे संपर्क करने में दिक्कत होगी. फिर इसरो वैज्ञानिको को इंतजार करना पड़ेगा.

  • लूनर डे के दौरान अगले 12 दिनों तक चांद पर दिन रहेगा
  • इसके बाद चांद पर रात हो जाएगी, जो पृथ्वी के 14 दिन के बराबर होती है
  • रात में विक्रम से संपर्क करने में दिक्कत होगी, फिर वैज्ञानिको को इंतजार करना पड़ेगा

चांद की सतह पर लैंडर विक्रम की लोकेशन का पता चल गया है. ऑर्बिटर ने विक्रम लैंडर की एक थर्मल इमेज क्लिक की है. हालांकि लैंडर विक्रम से अभी तक संपर्क नहीं हो पाया है. इसरो प्रमुख के. सिवन ने कहा है कि टीम लैंडर विक्रम से कम्युनिकेशन स्थापित करने की लगातार कोशिश कर रही है और जल्द ही संपर्क स्थापित हो जाएगा. वैज्ञानिकों के मुताबिक उनके पास विक्रम से संपर्क साधने के लिए 12 दिन हैं.

एक अनुमान के मुताबिक इसरो के पास विक्रम से संपर्क साधने के लिए 12 दिन हैं. क्योंकि अभी लूनर डे चल रहा है. एक लूनर डे धरती के 14 दिनों के बराबर होता है. इसमें से 2 दिन बीत चुके हैं. यानी अगले 12 दिनों तक चांद पर दिन रहेगा. उसके बाद चांद पर रात हो जाएगी, जो पृथ्वी के 14 दिन के बराबर होती है. रात में उससे संपर्क करने में दिक्कत होगी. फिर इसरो वैज्ञानिको को इंतजार करना पड़ेगा.

इस बीच, इसरो प्रमुख के. सिवन ने भी बताया कि हमें विक्रम लैंडर के बारे में पता चला है, वह चांद की सतह पर देखा गया है. ऑर्बिटर ने लैंडर की एक थर्मल पिक्चर ली है. लेकिन अभी तक कोई संचार स्थापित नहीं हो पाया है. हम संपर्क करने की कोशिश कर रहे हैं.

NameE-mailWebsiteComment

Leave a Reply

Your email address will not be published.