पहले टेस्ट में भारत की हार पर इंग्लैंड के प्रशंसकों ने उड़ाया मजाक, कहा- आपके कोहली कहां गए, हमारे पास एंडरसन हैं

एजबेस्टन. इंग्लैंड ने 5 टेस्ट की सीरीज के पहले मैच में भारत को 31 रन से हराया था। इस हार के बाद भारतीय टीम की कड़ी आलोचना की गई। जीत की दहलीज पर पहुंचकर हारने के कारण क्रिकेट विशेषज्ञों और प्रशंसकों ने बल्लेबाजों को इसका दोषी ठहराया। वहीं इंग्लैंड के प्रशंसकों ने विराट कोहलीको फिर से निशाने पर लिया। हालांकि कोहली ने टेस्ट की दोनों पारियों को मिलाकर कुल 200 रन बनाए, लेकिन ब्रिटिश समर्थकों ने फिर भी उन पर तंज कसा। स्टेडियम के बाहर भारतीय प्रशंसकों पर टिप्पणियां करते हुए उन्होंने कहा कि आपके कोहली कहां गए, हमारे पास एंडरसन हैं।

भारतीय टीम की बस के सामने किया हंगामा: इंग्लैंड के प्रशंसकों ने बर्मिंघम में एजबेस्टन क्रिकेट ग्राउंड के बाहर भारतीय प्रशंसकों के सामने जमकर हो-हल्ला किया। जिस समय वे भारतीय प्रशंसकों पर हार के कारण तंज कस रहे थे, उस वक्त भारतीय खिलाड़ी बस में थे। बस के ड्राइवर ने सिक्योरिटी गार्ड से सबको हटाने को भी कहा। दोनों टीमों के समर्थक बस के बगल में खड़े हो गए। भारतीय प्रशंसकों ने “बल्ले-बल्ले” कहकर टीम इंडिया को विदा किया।

आसपास क्या हो रहा है इस पर ध्यान न दें, सिर्फ दिल की सुनें: कोहली को तेंडुलकर की सलाह

लंदन.  नौ अगस्त से लॉर्ड्स में शुरू हो रहे दूसरे टेस्ट से पहले सचिन तेंडुलकर ने विराट कोहली को सलाह दी है। सचिन ने कहा कि कोहली सिर्फ अपने खेल पर ध्यान दें और दिल की बात सुनें। एजबेस्टन टेस्ट में भारत की हार के बाद कोहली की कप्तानी पर सवाल उठे थे। इंग्लैंड के पूर्व कप्तान नासिर हुसैन ने कहा था कि पहले टेस्ट में कोहली के कुछ फैसले अच्छे नहीं थे। हालांकि, सचिन ने कहा कि विराट बेहतरीन बल्लेबाजी कर रहे हैं। वे ऐसे ही खेलते रहें। आसपास क्या हो रहा है, इस बारे में चिंता न करें।
पहले टेस्ट मैच में इंग्लैंड ने भारत को 31 रन से हराया था। इसके बाद नासिर हुसैन ने कहा था कि कोहली को हार की जिम्मेदारी लेनी चाहिए। इंग्लैंड के आदिल रशीद जब बल्लेबाजी के लिए क्रीज पर थे तो भारत के टॉप स्पिनर रविचंद्रन अश्विन को आराम के लिए मैदान से बाहर भेजना ठीक नहीं था। उनके बाहर जाने से टीम इंडिया ने मैच पर नियंत्रण खो दिया था।

 

संतुष्ट होने पर पतन शुरू हो जाएगा : खेल वेबसाइट क्रिकइन्फो को दिए इंटरव्यू में सचिन ने कहा, ‘”आसपास बहुत-सी बातें कही जाएंगी। आप जीवन में जो पाना चाहते हैं और जिस बात को लेकर आप आगे बढ़ रहे हैं, सिर्फ उसी पर फोकस रखें। परिणाम हमेशा आपके पक्ष में होंगे। मैं अपने अनुभव से कहना चाहता हूं कि आप जितने भी रन बना लें, वे कम ही होंगे। जिस दिन आप अपने प्रदर्शन संतुष्ट हो जाएंगे, वहां से पतन शुरू हो जाएगा। गेंदबाज केवल दस विकेट ले सकता है, लेकिन बल्लेबाज लगातार रन बना सकता है। इसलिए कभी संतुष्ट न हों, सिर्फ खुश रहें।’’

एजबेस्टन की उपलब्धि पर फख्र होना चाहिए : सचिन ने कहा कि कोहली को एजबेस्टन में हासिल व्यक्तिगत उपलब्धि पर फख्र होना चाहिए। उन्हें ध्यान रखना चाहिए कि 2014 में उनका इंग्लैंड दौरा ठीक नहीं था। विराट ने 2014 के इंग्लैंड दौरे पर पांच टेस्ट में केवल 134 रन बनाए थे। इस दौरान उनका सर्वोच्च स्कोर 39 था। वे छह बार दहाई के आंकड़े को भी नहीं छू सके थे। जबकि इस बार पहले ही टेस्ट में कोहली ने दोनों पारियों में कुल 200 रन बनाए।

पहला टेस्ट, तीसरा दिनः इंग्लैंड ने भारत को दिया 194 रन का लक्ष्य, भारत ने दूसरी पारी में 5 विकेट पर बनाए 110 रन

बर्मिंघम. इंग्लैंड ने भारत को पहले टेस्ट में जीत के लिए 194 रन का लक्ष्य दिया। तीसरे दिन का खेल खत्म होने के समय भारत ने दूसरी पारी में 36 ओवर में 5 विकेट खोकर 110 रन बना लिए। जीत के लिए अभी उसे 84 रन की और जरूरत है। कप्तान विराट कोहली 43 और दिनेश कार्तिक 18 रन बनाकर नाबाद हैं। भारत की ओर से मुरली विजय 6 और अंजिक्य रहाणे 2, जबकि शिखर धवन, लोकेश राहुल, रविचंद्रन अश्विन 13-13 रन बनाकर पवेलियन लौटे। इंग्लैंड के लिए स्टुअर्ट ब्रॉड ने 2, बेन स्टोक्स, सैम कुरेन और जेम्स एंडरसन ने 1-1 विकेट लिए।

इससे पहले इंग्लैंड की दूसरी पारी में सैम कुरेन टॉप स्कोरर रहे। 8वें नंबर पर बल्लेबाजी करने आए कुरेन ने 65 गेंद में 63 रन बनाए। उन्होंने 54 गेंद में अपना अर्धशतक पूरा किया। उन्होंने 8वें विकेट के लिए आदिल रशीद के साथ मिलकर 48 रन जोड़े। भारत की ओर से इशांत शर्मा ने 5, रविचंद्रन अश्विन ने 3 और उमेश यादव ने 2 विकेट लिए। इंग्लैंड ने मैच के पहले दिन बुधवार को टॉस जीतकर बल्लेबाजी का फैसला किया था। उसकी पहली पारी 287 रन पर ऑलआउट हुई। भारत ने पहली पारी में 274 रन बनाए।

 

इंग्लैंड में एक टेस्ट में 300 से ज्यादा गेंदें खेलने वाले विराट तीसरे भारतीय कप्तानः विराट कोहली इस टेस्ट में अब तक 301 गेंदें खेल चुके हैं। इंग्लैंड में भारतीय कप्तान द्वारा किसी एक टेस्ट में गेंदें खेलने के मामले में वे तीसरे नंबर पर हैं। मंसूर अली खान पटौदी पहले और सौरव गांगुली दूसरे नंबर पर हैं। पटौदी ने 1967 में लीड्स में हुए मैच में 554, जबकि गांगुली ने 2002 में नॉटिंघम में 308 गेंदें खेलीं थीं।

 

इशांत ने 5 गेंद में 3 खिलाड़ियों को पवेलियन भेजाः इंग्लैंड की दूसरी पारी में इशांत शर्मा ने एक ओवर में 3 विकेट लिए। लंच से पहले 31वें ओवर में उन्होंने दूसरी गेंद पर बेयरस्टो, चौथी गेंद पर बेन स्टोक्स को आउट किया। इसके बाद लंच हो गया। लंच के बाद ओवर की आखिरी गेंद पर इशांत ने बटलर का विकेट लिया। इशांत एजबस्टन के इस मैदान में एक पारी में 5 या उससे ज्यादा विकेट लेने वाले तीसरे भारतीय हैं। उनसे पहले कपिल देव (1979 में 5/146) और चेतन शर्मा (1986 में 6/58) अपने नाम यह उपलब्धि कर चुके हैं।

 

इशांत 200 से ज्यादा विकेट लेने वाले 9वें भारतीयः इशांत के टेस्ट में 244 विकेट हो गए हैं। उनसे पहले अनिल कुंबले, कपिल देव, हरभजन सिंह, रविचंद्रन अश्विन, जहीर खान, बिशन सिंह बेदी, बीएस चंद्रशेखर और जवागल श्रीनाथ टेस्ट में 200 से ज्यादा विकेट अपने नाम कर चुके हैं। हालांकि इस सूची में इशांत के अलावा अश्विन ही हैं, जो मौजूदा समय में खेल रहे हैं।

 

अनिल कुंबले ने सबसे ज्यादा बार लिए मैच में 5 और 10 से ज्यादा विकेट

खिलाड़ी मैच विकेट पारी में बेस्ट मैच में बेस्ट मैच में 5 विकेट मैच में 10 विकेट
अनिल कुंबले 132 619 10/74 14/149 35 8
कपिल देव 131 434 9/83 11/146 23 2
हरभजन सिंह 103 417 8/84 15/217 25 5
रविचंद्रन अश्विन 59* 323 7/59 13/140 26 7
जहीर खान 92 311 7/87 10/149 11 1
बिशन सिंह बेदी 67 266 7/98 10/194 14 1
इशांत शर्मा 83* 244 7/74 10/108 08 1
बीएस चंद्रशेखर 58 242 8/79 12/104 16 2
जवागल श्रीनाथ 67 236 8/86 13/132 10 1

* मैच खेल रहे

 

कुरेन अर्धशतक लगाने वाले इंग्लैंड के चौथे सबसे युवा क्रिकेटरः सैम कुरेन ने गुरुवार को टेस्ट में 4 विकेट लिए थे। वे ऐसा करने वाले इंग्लैंड के सबसे युवा क्रिकेटर बने। शुक्रवार को कुरेन ने एक और रिकॉर्ड अपने नाम किया। 20 साल 61 दिन के कुरेन ने जैसे ही अपना 50वां रन पूरा किया, वे सबसे कम उम्र में अर्धशतक जमाने वाले इंग्लैंड के चौथे बल्लेबाज बन गए। इंग्लैंड के लिए डेनिस कैम्पटन, जैक क्रोफोर्ड और हसीब हमीद उनसे कम उम्र में अर्धशतक जमा चुके हैं।

 

स्कोर बोर्डः भारत दूसरी पारी

बल्लेबाज रन गेंद 4s 6s
मुरली विजय एलबीडब्ल्यू स्टुअर्ट ब्रॉड 06 17 0 0
शिखर धवन कै. जॉनी बेयरस्टो बो. ब्रॉड 13 24 1 0
लोकेश राहुल कै. जॉनी बेयरस्टो बो. बेन स्टोक्स 13 24 2 0
विराट कोहली* 43 76 3 0
अंजिक्य रहाणे कै. जॉनी बेयरस्टो बो. सैम कुरेन 02 16 0 0
रविचंद्रन अश्विन कै. जॉनी बेयरस्टो बो. जेम्स एंडरसन 13 15 3 0
दिनेश कार्तिक* 18 44 2 0

एक्स्ट्राः 2, ओवरः 36, स्कोरः 110/5

विकेट पतनः 1-19, 2-22, 3-46, 4-63, 5-78

गेंदबाजीः जेम्स एंडरसन 11-2-33-1, स्टुअर्ट ब्रॉड 9-1-29-2, बेन स्टोक्स 10-1-25-1, सैम कुरेन 5-0-17-1, आदिल रशीद 1-0-4-0

 

स्कोर बोर्डः इंग्लैंड दूसरी पारी

बल्लेबाज रन गेंद 4s 6s
एलिस्टर कुक बो. रविचंद्रन अश्विन 00 14 0 0
किटोन जेनिंग्स कै. राहुल बो अश्विन 08 18 1 0
जो रूट कै. लोकेश राहुल बो. अश्विन 14 35 1 0
डेविड मलान कै. अंजिक्य रहाणे बो. इशांत शर्मा 20 64 2 0
जॉनी बेयरस्टो कै. शिखर धवन बो. इशांत शर्मा 28 40 5 0
बेन स्टोक्स कै. विराट कोहली बो. इशांत शर्मा 06 13 0 0
जोस बटलर कै कार्तिक बो. इशांत शर्मा 01 01 0 0
सैम कुरेन कै. दिनेश कार्तिक बो. उमेश यादव 63 65 9 2
आदिल रशीद बो. उमेश यादव 16 40 1 0
स्टुअर्ट ब्रॉड कै. शिखर धवन बो. इशांत शर्मा 11 28 0 0
जेम्स एंडरसन 00 00 0 0

एक्स्ट्राः 13, ओवरः 53, स्कोरः 180/10

विकेट पतनः 1/9, 2/18, 3/39, 4/70, 5/85, 6/86, 7/87, 8/135, 9/176, 10/180

गेंदबाजीः मोहम्मद शमी 12-2-38-0, रविचंद्रन अश्विन 21-4-59-3, इशांत शर्मा 13-0-51-5, उमेश यादव 7-1-20-2

 

 

स्कोर बोर्डः भारत पहली पारी

बल्लेबाज रन गेंद 4s 6s
मुरली विजय एलबीडब्ल्यू बो. सैम कुरेन 20 45 4 0
शिखर धवन कै. डेविड मलान बो. सैम कुरेन 26 46 3 0
लोकेश राहुल बो. सैम कुरेन 04 02 1 0
विराट कोहली कै. स्टुअर्ट ब्रॉड बो. आदिल रशीद 149 225 22 0
अंजिक्य रहाणे कै. किटोन जेनिंग्स बो. बेन स्टोक्स 15 34 1 0
दिनेश कार्तिक बो. बेन स्टोक्स 00 04 0 0
हार्दिक पंड्या एलबीडब्ल्यू सैम कुरेन 22 52 3 0
रविचंद्रन अश्विन बो. जेम्स एंडरसन 06 07 1 0
मोहम्मद शमी कै. डेविड मलान बो. जेम्स एंडरसन 02 04 0 0
इशांत शर्मा एलबीडब्ल्यू आदिल रशीद 05 16 0 0
उमेश यादव नाबाद 01 16 0 0

एक्स्ट्राः 20ओवरः 76, स्कोरः 274

विकेट पतनः 1/50, 2/54, 3/59, 4/100, 5/100, 6/148, 7/169, 8/182, 9/217, 10/274

गेंदबाजीः जेम्स एंडरसन 22-7-41-2, स्टुअर्ट ब्रॉड 10-2-40-0, सैम कुरेन 17-1-74-4, आदिल रशीद 8-0-31-2, बेन स्टोक्स 19-4-73-2

 

स्कोर बोर्डः इंग्लैंड पहली पारी

बल्लेबाज रन गेंद 4s 6s
एलिएस्टर कुक बो. अश्विन 13 28 2 00
किटोन जेनिंग्स बो. शमी 42 98 4 00
जो रूट रन आउट 80 156 9 00
डेविड मलान एलबीडब्ल्यू बो. शमी 08 14 1 00
जॉनी बेयरस्टो बो. उमेश यादव 70 88 9 00
बेन स्टोक्स कै. एंड बो. अश्विन 21 41 2 00
जोस बटलर एलबीडब्ल्यू अश्विन 00 02 0 00
सैम कुरेन कै. कार्तिक बो. शमी 24 71 3 00
आदिल रशीद एलबीडब्ल्यू इशांत शर्मा 13 18 2 00
स्टुअर्ट ब्रॉड एलबीडब्ल्यू बो. अश्विन 01 07 0 00
जेम्स एंडरसन नॉटआउट 02 15 0 00

एक्स्ट्रॉः 13, ओवरः 89.4, स्कोरः 285/10

विकेट पतनः 1/26, 2/98, 3/112, 4/216, 5/223, 6/224, 7/243, 8/278, 9/283, 10/287

गेंदबाजीः उमेश यादव 17-2-56-1, इशांत शर्मा 17-1-46-1, रविचंद्रन अश्विन 26-7-62-4, मोहम्मद शमी 19.4-2-64-3, हार्दिक पंड्या 10-1-46-0

 

टीमेंः
इंग्लैंड: 
एलिस्टर कुक, किटोन जेनिंग्स, जो रूट (कप्तान), डेविड मलान, जॉनी बेयरस्टो, बेन स्टोक्स, जोस बटलर, आदिल रशीद, सैम कुरेन, स्टुअर्ट ब्रॉड, जेम्स एंडरसन।
भारत: मुरली विजय, शिखर धवन, लोकेश राहुल, विराट कोहली (कप्तान), अजिंक्य रहाणे, दिनेश कार्तिक, हार्दिक पंड्या, रविचंद्रन अश्विन, मोहम्मद शमी, उमेश यादव, इशांत शर्मा।

INDvENG:विराट का इंग्लैंड में पहला शतक

भारत के कप्तान विराट कोहली ने इंग्लैंड में इतिहास रच दिया है। विराट ने इंग्लैंड की धरती पर अपना पहला टेस्ट शतक जड़ा है। उन्होंने इससे पहले कभी इंग्लैंड के खिलाफ टेस्ट मैच में इंग्लैंड की जमीं पर शतक नहीं लगाया था। उन्होंने अपना सैकड़ा 172 गेंदों में पूरा किया। कोहली ने इस दौरान 14 चौके मारे। कोहली का इससे पहले इग्लैंड में टेस्ट मैचों में प्रदर्शन बेहद निराशाजनक था। उन्होंने साल 2014 में 5 मैचों की 10 पारियों में महज 134 रन ही बनाए थे। विराट की यह पारी उनके करियर की सर्वश्रेष्ठ पारियों में से एक है। विराट के शानदार शतक लगाने के बाद लोगों ने सोशल मीडिया पर उन्हें बधाई दी है।

View image on Twitter

अपनी इस पारी से विराट कोहली ने आलोचकों को दिया करारा जवाब
इसके साथ ही यह इंग्लैंड में 6 टेस्ट मैचों में उनका अब तक का सर्वश्रेष्ठ स्कोर भी है। गौरतलब है कि साल 2014 में पहली बार इंग्लैंड दौरे पर आए विराट कोहली 5 टेस्ट मैचों की सीरीज में रन बनाने के लिए संघर्ष करते रहे। वह पूरी टेस्ट सीरीज में बल्ले से बुरी तरह नाकाम रहे थे और 5 टेस्ट मैचों की 10 पारियों में 13.40 की मामूली औसत से सिर्फ 134 रन बना सके थे। इस दौरान उनका सर्वोच्च स्कोर 39 रन था। बेहद ही कठिन परिस्थितियों में बनाए गए इस शतक के साथ ही विराट ने अपने आलोचकों को करारा जवाब दिया है।

पहला टेस्ट आज सेः विराट का सक्सेस रेट रूट से 22.5% ज्यादा, लेकिन भारत ने इंग्लैंड से 18 मैच कम जीते

बर्मिंघम. भारत-इंग्लैंड के बीच पांच टेस्ट की सीरीज का पहला मैच बुधवार से यहां एडबस्टन में खेला जाएगा। नजर विराट कोहली की कप्तानी और बल्लेबाजी पर रहेगी। आंकड़े बताते हैं कि वे इंग्लैंड टीम के अपने समकक्ष जो रूट से ज्यादा कामयाब कप्तान हैं। विराट ने अब तक 35 टेस्ट में कप्तानी की है। इनमें से भारत ने 21 जीते, नौ ड्रॉ खेले। रूट ने 16 मैच में कप्तानी की। इनमें से छह जीते, आठ में हार मिली। इस तरह विराट का सक्सेस रेट रूट से 22.5% ज्यादा है। हालांकि, भारत के खिलाफ टेस्ट नतीजों के मामले में इंग्लैंड का पलड़ा भारी है। इंग्लैंड और भारत ने एक-दूसरे के खिलाफ 117 टेस्ट खेले। इनमें से इंग्लैंड ने 43 और भारत ने 25 जीते।

भारत ने इंग्लैंड में 57 मैच खेले, जिनमें सिर्फ छह जीते। टीम इंडिया ने इंग्लैंड में अब तक सिर्फ तीन टेस्ट सीरीज (1971, 1986, 2007 में) ही जीती हैं। इंग्लैंड में आखिरी बार राहुल द्रविड़ की अगुआई में टेस्ट सीरीज जीती थी। महेंद्र सिंह धोनी की कप्तानी में टीम इंडिया 2011 में 4-0 और 2014 में 3-1 से सीरीज हार गई थी। पिछले पांच साल की बात करें तो भारत ने एशिया के बाहर 6 सीरीज खेलीं। इनमें से वह सिर्फ एक (वेस्टइंडीज के खिलाफ) जीत सका।

अंडर-19 क्रिकेट: भारत ने पहले वनडे मैच में श्रीलंका को छह विकेट से हराया, अनुज रावत का अर्धशतक

 

कोलंबो. यूथ टेस्ट सीरीज में क्लीन स्वीप करने के बाद भारत की अंडर-19 टीम ने यूथ वनडे सीरीज की भी जोरदार शुरुआत की है। पांच मैचों की सीरीज के पहले मुकाबले में भारत ने छह विकेट से जीत हासिल की। टॉस जीतकर पहले बल्लेबाजी करते हुए श्रीलंका अंडर-19 की टीम 38.4 ओवर में 143 रन के स्कोर पर ऑल आउट हो गई। निपुण मलिंगा ने सबसे ज्यादा 38 रन बनाए। जवाब में भारत अंडर-19 ने 37.1 ओवर में चार विकेट खोकर जीत का लक्ष्य हासिल कर लिया। अनुज रावत ने सर्वाधिक 50 रन बनाए।

 

6 श्रीलंकाई बल्लेबाज दहाई के आंकड़े तक भी नहीं पहुंचे: श्रीलंका के लिए सिर्फ 5 बल्लेबाजों ने 10 या उससे ज्यादा रन बनाए। नवोद परनविताना ने 15, निपुण धनंजय ने 33, वेल्लागे ने 13, निपुण मलिंगा ने 38 और नवीन फर्नांडो ने 10 रन बनाए। बाकि के 6 बल्लेबाज दस रन के अंदर ही रह गए। भारत के लिए सबसे ज्यादा 3 विकेट अजय देव ने लिए। वहीं मोहित जागरा, यतिन और आयुष ने 2-2 विकेट अपने नाम किए।

 

 

कोहली ने 4 साल पहले इंग्लैंड में नाकामी के बाद दोगुने रन बनाए, 6 दोहरे शतक समेत 15 शतक लगाए

भारत-इंग्लैंड के बीच पांच टेस्ट की सीरीज का पहला मुकाबला बुधवार से बर्मिंघम में होगा। दोनों देशों के बीच इस फॉर्मेट में पिछली सीरीज 2014 में हुई थी। इसमें विराट कोहली कुल 134 रन बना सके थे। विदेशी धरती पर यह उनका सबसे खराब प्रदर्शन था। सीरीज खत्म होने तक उन्होंने टेस्ट करियर में 29 मैच में छह शतक की मदद से 1,855 रन बनाए थे। औसत 38.64 का था। हालांकि, इसके बाद उन्होंने 37 टेस्ट खेले और 63.77 की औसत से 3,699 रन बनाए। इस दौरान 15 शतक भी लगाए। इनमें छह दोहरे शतक शामिल हैं।

महिला हॉकी वर्ल्ड कप, अमेरिका को ड्रॉ पर रोककर भारत प्लेऑफ में पूल-बी के इस मैच में अमेरिका के लिए पाओलिनो माग्वाक्स ने 11वें और भारत के लिए कप्तान रानी रामपाल ने 31वें मिनट में गोल किया.

कप्तान रानी रामपाल के जरिए दूसरे हाफ में किए गए अहम गोल की बदौलत भारतीय महिला हॉकी टीम ने रविवार को अपने आखिरी ग्रुप मैच में अमेरिका को 1-1 से ड्रॉ पर रोककर विश्व कप के प्लेऑफ में जगह बना लिया.भारत के तीन मैचों में दो अंक रहे और वह विश्व कप के क्वार्टर फाइनल दौर से बाहर हो गई. लेकिन अमेरिका से ड्रॉ खेलकर वह अब प्लेआफ के लिए खेलेगी.

 

पूल-बी में आयरलैंड छह अंकों के साथ क्वार्टर फाइनल में पहुंची. तो वहीं इंग्लैंड के भी दो मैचों में दो अंक रहे और अब वह भी प्लेआफ खेलेगी. पूल-बी के इस मैच में अमेरिका के लिए पाओलिनो माग्वाक्स ने 11वें और भारत के लिए कप्तान रानी रामपाल ने 31वें मिनट में गोल किया. करो या मरो के इस मैच में भारत को पहले क्वार्टर में सातवें, 14वें और 15वें मिनट में तीन पेनाल्टी कॉनर्र मिले जिसका टीम फायदा नहीं उठा सकी.वहीं अमेरिका ने 11वें मिनट में मैदानी गोल कर 1-0 की बढ़त हासिल कर ली.अमेरिका के लिए यह गोल पाओलिनो माग्वाक्स ने किया.

 

दूसरे क्वार्टर में अमेरिका को 18वें, 28वें और 30वें मिनट में तीन पेनाल्टी कॉनर्र मिले.लेकिन उसके खिलाड़ी इसे गोल में भुनाने में नाकाम रहे.हालांकि भारतीय टीम भी 19वें मिनट में मिले पेनाल्टी कार्नर का फायदा नहीं उठा सकी और पहला हाफ 1-0 से अमेरिका के नाम रहा. दूसरे हाफ में भारत ने बेहतरीन वापसी की.31वें मिनट में मिले पांचवे पेनल्टी कॉर्नर को कप्तान रानी रामपाल ने गोल में बदलकर भारत को 1-1 की बराबरी पर ला दिया.भारत ने इस तरह तीसरे क्वार्टर का समापन 1-1 की बराबरी के साथ किया.

 

चौथा और निर्णायक दोनों ही टीमों के लिए काफी अहम हो गया.47वें मिनट में भारत को छठा पेनाल्टी कॉर्नर मिला जो बेकार चला गया.हालांकि भारतीय खिलाड़ियों ने अपना आक्रमण जारी रखा. मुकाबले में इसके बाद और कोई गोल नहीं हो सका और भारत ने अमेरिका को 1-1 से ड्रॉ पर रोककर प्लेआफ में अपना स्थान पक्का कर लिया.